J&K और लद्दाख के सरकारी कर्मचारियों को केंद्र सरकार का तोहफा

Employees
J&K और लद्दाख के सरकारी कर्मचारियों को केंद्र सरकार का तोहफा

नई दिल्ली। J&K और लद्दाख के सरकारी कर्मचारियों को केंद्र सरकार ने दिवाली से पहले तोहफा दिया है। सरकार ने जम्‍मू कश्‍मीर तथा लद्दाख संघ क्षेत्रों के सभी सरकारी कर्मचारियों को सातवें वेतन आयोग की सिफारिशों के अंगीकृत सभी भत्‍ते प्रदान करने के प्रस्‍ताव को स्‍वीकृत कर दिया है और गृह मंत्रालय ने इससे संबंधित आदेश जारी कर दिए हैं। भारत सरकार के इस निर्णय का लाभ 4.5 लाख सरकारी कर्मचारियों को मिलेगा जो कि अभी मौजूदा जम्‍मू कश्‍मीर राज्‍य में कार्यरत हैं और 31 अक्‍टूबर 2019 को इन दोनों संघ क्षेत्रों के कर्मचारी हो जाएंगे।

Modi Shah
J&K और लद्दाख के सरकारी कर्मचारियों को केंद्र सरकार का तोहफा

बता दें कि जम्‍मू कश्‍मीर पुनर्गठन विधेयक संसद में पारित होने के उपरान्‍त प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने 8 अगस्‍त, 2019 को राष्‍ट्र के नाम एक संदेश दिया था, जिसमें उन्‍होंने जम्‍मू कश्‍मीर संघ क्षेत्र तथा लद्दाख संघ क्षेत्र के सरकारी कर्मचारियों को अन्‍य संघ क्षेत्रों के कर्मचारियों के बराबर सातवें वेतन आयोग की अंगीकृत सिफारिशों के अनुरूप सभी वित्‍तीय सुविधाएं दिये जाने का आश्‍वासन दिया था। इस आश्वासन के अनुरूप, गृहमंत्री अमित शाह ने भत्‍ते प्रदान करने संबंधी प्रस्‍ताव को स्‍वीकृति प्रदान कर दी।

मौजूदा जम्‍मू कश्‍मीर राज्‍य में कार्यरत 4.5 लाख सरकारी कर्मचरियों को सातवें वेतन आयोग की अंगीकृत सिफारिशों के अनुरूप सभी भत्‍ते जैसे चिल्‍ड्रेन एजूकेशन अलाउयन्‍स, हॉस्‍टल अलाउयन्‍स, ट्रान्‍सपोर्ट अलाउयन्‍स, लीव ट्रेवल कन्‍सेशन (LTC), फिक्‍सड मेडिकल अलाउयन्‍स आदि दिए जाने पर सालाना अनुमानित खर्च लगभग 4800 करोड़ रुपये आएगा।

यह भी पढ़ें : दुनिया का सबसे ऊंचा युद्धक्षेत्र पर्यटकों के लिए खुला

—PTC NEWS—