टिड्डी दल से हुए नुकसान की सरकार ने मांगी रिपोर्ट, विशेष गिरदावरी के निर्देश

Haryana Government sought report of loss from locust attack

चंडीगढ़। हरियाणा के कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री जे.पी. दलाल ने कहा कि मुख्यमंत्री मनोहर लाल के निर्देशानुसार प्रदेश में टिड्डी दल से हुए नुकसान की रिपोर्ट मांगी गई है और जहां भी ज्यादा नुकसान मिलेगा, वहां विशेष गिरदावरी करवाई जाएगी। जे.पी. दलाल ने आज जिला चरखी दादरी के टिड्डी दल से प्रभावित क्षेत्र का दौरा कर इससे हुए नुकसान का जायजा लिया। वे प्रात: 10 बजे के करीब बौंद स्थित सिंचाई विश्राम गृह पहुंचे और जिला उपायुक्त से जिले में हुए टिड्डी दल के हमले की जानकारी ली।

उन्होंने विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि जहां पर भी टिड्डी दल दिखाई दे, तुरंत दवा का छिड़काव करवाया जाए। साथ ही जिले के 20-25 गांव को मिलाकर एक ग्रुप बनाया जाए, जिसमें प्रत्येक गांव से 4-5 लोग हों, ताकि टिड्डी दल की सूचना समय रहते प्रशासन तक पहुंच सके और इनको मारा जा सके। उन्होंने निर्देश दिए कि टिड्डी दल पर लगातार नजर रखी जाए और जब तक यह समाप्त न हो जाए, प्रशासन व कृषि विभाग के अधिकारी पूरी तरह सचेत रहें।

Haryana Government sought report of loss from locust attack

कृषि मंत्री ने बताया कि टिड्डी दल से निपटने की हरसंभव कोशिश की जा रही है और अभी तक सरकार के निर्देशानुसार विभिन्न जिलों में लगभग 50 प्रतिशत टिड्डी दल को समाप्त किए जाने की रिपोर्ट है। इस दौरान दलाल ने गांव सांवड़ व आसपास के क्षेत्र में जाकर रात को टिड्डी दल पर किए गए छिड़काव का भी जायजा किया। उन्होंने मौके पर जाकर टिड्डियों पर हुए दवा के असर को देखा और कृषि विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि टिड्डी दल पर दिन के समय भी दवा का छिड़काव किया जाए क्योंकि विभाग के पास दवा की कोई कमी नहीं है।

Haryana Government sought report of loss from locust attack

कृषि मंत्री ने कहा कि बरसात का मौसम टिड्डी दल के लिए अनुकूल है, ऐसे में ज्यादा सतर्कता बरतने की जरूरत है। उन्होंने किसानों से सचेत रहने की अपील करते हुए कहा कि आने वाले कुछ दिन टिड्डी दल के खतरे से भरे हैं। ऐसे में किसान इस बात का ध्यान रखें कि रात को टिड्डी दल कहां बैठता है और पल-पल की जानकारी प्रशासन को दें, ताकि इसे पूरी तरह समाप्त किया जा सके।

इस दौरान कृषि मंत्री को अवगत करवाया गया कि रात को टिड्डी दल चार पांच भागों में बंटकर जिले के विभिन्न क्षेत्रों में था। प्रशासन और कृषि विभाग के अधिकारी पूरी रात से लगे हुए हैं और कई स्थानों पर टिड्डी दल को मारने के लिए दो-तीन बार दवा का छिड़काव किया गया है। टिड्डी दल को लेकर प्रशासन पहले से ही सतर्क था, जिसके चलते जिले में ज्यादा नुकसान नहीं हुआ है। जिला प्रशासन की तीन फायर ब्रिगेड के अलावा फायर ब्रिगेड की दो अन्य गाडिय़ां दूसरे जिले से मंगवाई गई हैं ताकि जरूरत अनुसार दवा का छिडक़ाव समय पर किया जा सके।

—PTC NEWS—