1.5 मिलियन से अधिक क्रिप्टोकरंसी फ्राड मामले में हरियाणा पुलिस ने 4 को किया गिरफ्तार

चंडीगढ़। हरियाणा पुलिस ने क्रिप्टोकरंसी फ्रॉड के खिलाफ कार्रवाई करते हुए वर्चुअल करेंसी बिटकॉइन में इंवेस्ट करने के नाम पर लोगों से ठगी करने वाले मास्टरमाइंड सहित चार जालसाजों को गिरफ्तार किया है। डीजीपी मनोज यादव ने आज इस संबंध में जानकारी देते हुए बताया कि बिटकॉइन के नाम पर मोटे मुनाफे का झांसा देकर ठगी करने वाले आरोपी मास्टरमाइंड और उसके साथी चीन से बाहर स्थित एक बहुराष्ट्रीय क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज, बिनांस के नाम का इस्तेमाल कर रहे थे। बिटकॉइन ट्रेडिंग के नाम पर सभी मोटे मुनाफे का लालच देकर भोले-भाले लोगों को अपने जाल में फंसाते थे।

उन्होंने बताया कि सोनीपत के सेक्टर-23 निवासी प्रवेश ने गांव माढा पुलिस थाना नारनौद, हांसी निवासी हरिंदर चहल के खिलाफ ठगी के संबंध में पुलिस को शिकायत दी थी। शिकायत के आधार पर साइबर पुलिस स्टेशन पंचकूला में आईपीसी और आईटी एक्ट की संबंधित धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया। पुलिस ने साइबर विशेषज्ञों की मदद से जांच शुरू की तो पता चला कि इस धोखाधड़ी में आरोपी मास्टरमाइंड अकेला नहीं है बल्कि कई अन्य लोग भी शामिल हैं जो मोटे मुनाफे के झांसे के साथ बिटकॉइन में निवेश करवाने के काम को अंजाम देते थे। अब तक की जांच में मास्टरमाइंड सहित चार आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है।

यह भी पढ़ें– राम रहीम की पैरोल पर अंशुल छत्रपति ने उठाए सवाल

यह भी पढ़ें– टीएमसी सांसद नुसरत जहां बोलीं- निखिल जैन से ‘वैध’ नहीं शादी

Best Police Station in Haryanaडीजीपी ने बिटकॉइन लेनदेन से जुड़े धोखाधड़ी का पर्दाफाश करने के लिए अपराध इकाई की पूरी टीम को बधाई दी। उन्होंने कहा कि पुलिस द्वारा ठगे गए लोगों की संख्या के बारे में और जानकारी एकत्र की जा रही है। फिलहाल, गिरफतार आरोपियों से पूछताछ की जा रही है। साथ ही अन्य आरोपियों का पता लगाने का प्रयास जारी है।