Mon, Jan 30, 2023
Whatsapp

शहबाज शरीफ के बयान पर MEA का पहला रिएक्शन, पीएम मोदी पर बनी बीबीसी की डॉक्यूमेंट्री को भी बताया प्रोपेगेंडा

पाकिस्तान पीएम शहबाज शरीफ ने एक एक इंटरव्यू में भारत से अच्छे रिश्ते रखने की बात कही थी। अब इस मामले पर भारतीय विदेश मंत्रालय का बयान आया है। भारतीय विदेश मंत्रालय ने कहा कि जब तक आतंकवाद खत्म नहीं होता तब तक बातचीत नहीं होगी। इसके साथ ही विदेश मंत्रालय में पीएम मोदी पर बनी बीबीसी की डॉक्यूमेंट्री को प्रोपेगेंडा बताया है।

Written by  Vinod Kumar -- January 19th 2023 06:17 PM
शहबाज शरीफ के बयान पर MEA का पहला रिएक्शन, पीएम मोदी पर बनी बीबीसी की डॉक्यूमेंट्री को भी बताया प्रोपेगेंडा

शहबाज शरीफ के बयान पर MEA का पहला रिएक्शन, पीएम मोदी पर बनी बीबीसी की डॉक्यूमेंट्री को भी बताया प्रोपेगेंडा

पाकिस्तान पीएम शहबाज शरीफ ने एक एक इंटरव्यू में भारत से अच्छे रिश्ते रखने की बात कही थी। अब इस मामले पर भारतीय विदेश मंत्रालय का बयान आया है। भारतीय विदेश मंत्रालय ने कहा कि जब तक आतंकवाद खत्म नहीं होता तब तक बातचीत नहीं होगी।  

भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, 'हम लोग भी हमेशा पाकिस्तान से सामान्य रिश्ते चाहते हैं, लेकिन भारत का हमेशा से मानना है कि इसके लिए आतंकवाद खत्म होना चाहिए।' हम पहले भी कह चुके हैं और अब भी कहना चाहते हैं कि भारत अपने हर पड़ोसी और पाकिस्तान से अच्छे पड़ोसी के रिश्ते चाहता है, लेकिन इसके लिए सही माहौल भी तो तैयार करना पड़ेगा। आतंकवाद और हिंसा के माहौल में बातचीत मुमकिन नहीं है। हमारे इस रुख में कोई बदलाव नहीं हुआ। 


बता दें कि शहबाज शरीफ ने सोमवार को दुबई स्थित अल अरबिया समाचार चैनल के साथ एक इंटरव्यू के दौरान कहा था कि हम भारत के साथ शांति चाहते हैं। भारत के साथ हुए तीन युद्धों में हमने अपना सबक सीख लिया है। युद्ध से हमारे देश में गरीबी और बेरोजगारी ही पैदा हुई है। उन्होंने ने कहा था कि यह हमारे ऊपर है कि हम शांति से रहें, तरक्की करें या फिर एक-दूसरे से झगड़कर अपना समय और संसाधन बर्बाद करें। 

हाल ही में प्रकाशित की गयी BBC की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर बनी डॉक्यूमेंट्री पर विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा कि हमें लगता है कि यह एक प्रोपोगेंडा है। इसकी कोई वस्तुनिष्ठता नहीं है, यह पक्षपातपूर्ण है। इसमें पूर्वाग्रह, वस्तुनिष्ठता की कमी और औपनिवेशिक मानसिकता स्पष्ट रूप से झलकती है। यह हमें इस कवायद के उद्देश्य और इसके पीछे के एजेंडा के बारे में सोचने पर मजबूर करता है। 

2002 के गुजरात दंगों पर बीबीसी ने एक डॉक्यूमेंट्री तैयार की थी। 'इंडिया: द मोदी क्वेश्चन' नाम की दो पार्ट की बीबीसी की डॉक्यूमेंट्री में पीएम मोदी पर गुजरात दंगो के आरोपियों को बचाने का आरोपों के  साथ ही इस डॉक्यूमेंट्री में नागरिकता कानून (CAA) और जम्मू कश्मरी में 370 हटाने का जिक्र करते हुए सरकार की आलोचना की गई है।




 

- PTC NEWS

adv-img

Top News view more...

Latest News view more...