हरियाणा

क्वीन एलिजाबेथ द्वितीय के निधन के बाद ऑपरेशन यूनिकॉर्न शुरू, जानिए कब महारानी का अंतिम संस्कार

By Vinod Kumar -- September 09, 2022 12:10 pm

क्वीन एलिजाबेथ द्वितीय का शुक्रवार को देहांत हो गया है। क्वीन एलिजाबेथ का जन्म 1926 में हुआ था। उनके देहांत के बाद 73 वर्षीय ब्रिटेन के नए किंग बन गए हैं। 96 साल की क्वीन एलिजाबेथ कुछ समय से बीमार चल रही थीं। एलिजाबेथ द्वितीय ब्रिटेन में सबसे लंबे वक्त तक शासन करने वाली शासक रहीं।

स्कॉटलैंड में महारानी एलिजाबेथ द्वितीय के निधन के बाद ऑपरेशन यूनिकॉर्न शुरू कर दिया गया है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, यह पहले से ही तय था कि अगर स्कॉटलैंड में महारानी का निधन होता है तो ऑपरेशन का नाम स्कॉटलैंड के राष्ट्रीय पशु के नाम पर रखा जाएगा। पहले महारानी की मौत और अंतिम संस्कार के बीच की प्रक्रिया को संभालने के लिए ऑपरेशन लंदन ब्रिज तैयार किया गया था। स्कॉटलेंड में महारानी के निधन के बाद ऑपरेशन यूनिकॉर्न लॉन्च किया गया है।

ऑपरेशन यूनिकॉर्न के तहत महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का पार्थिव शरीर उनकी मौत के एक हफ्ते के भीतर स्कॉटलैंड से लंदन लाया जाएगा। इसके पहले उनका पार्थिव शरीर बाल्मोरल कैसल से स्कॉटलैंड की राजधानी एडिनबर्ग स्थित होलीरूडहाउस में रखा जाएगा।

इसके बाद महारानी एलिजाबेथ द्वितीय की पार्थिव देह एडिनबर्ग के वेवर्ली स्टेशन से शाही ट्रेन से लंदन पहुंचाई जाएगी। यहां से उनका शरीर बकिंघम पैलेस लाया जाएगा। बकिंघम पैलेस में बंदूकों की सलामी का आयोजन किया जाएगा। इसके साथ ही अगले सम्राट किंग चार्ल्स का राष्ट्र के नाम संबोधन होगा।

उन्हें दफनाने से पहले उनके बेटे और उत्तराधिकारी प्रिंस चार्ल्स पूरे देश के साथ यूके की यात्रा करेंगे। इसके बाद महारानी एलिजाबेथ को प्रिंस फिलिप के बगल में दफनाया जाएगा। बता दें कि महारानी एजिलाबेथ द्वितीय एपिसोडिक मोबिलिटी समस्या से जूझ रही थीं। उन्हें चलने और खड़े होने में परेशानी हो रही थी। एलिजाबेथ द्वितीय 1952 से ब्रिटेन के साथ साथ एक दर्जन से ज्यादा देशों की महारानी थी।

  • Share