PGI में हुई ऑक्सीजन की किल्लत, अब कोरोना मरीजों को भर्ती नहीं करेगा पीजीआई

PGI में हुई ऑक्सीजन की किल्लत, अब कोरोना मरीजों को भर्ती नहीं करेगा पीजीआई

रोहतक। (अंकुर सैनी) कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामले आए दिन चिंता पैदा कर रहे हैं। प्रदेश के सबसे बड़े मेडिकल संस्थान में भी ऑक्सीजन की किल्लत हो चली है। पीजीआई में कोरोना के लिए बनाए गए कोविड हॉस्पिटल में मरीजों को अब भर्ती नहीं किया जायेगा। पीजीआई ने सूचना जारी कर ऑक्सीजन टैंक खाली होने का हवाला दिया है। हालांकि, एमएस का कहना है कि जिला प्रशासन से मदद मांगी जा रही है।

दरअसल, रोहतक पीजीआई मेडिकल में कुछ दिन पहले ट्रॉमा सेंटर को कोविड हॉस्पिटल में पूर्ण रूप से तब्दील किया गया था। बढ़ते कोरोना के मरीजों को ट्रॉमा सेंटर में भर्ती कराया जा रहा था। लेकिन, रविवार देर रात मेडिकल सुपरिटेंडेंट डॉक्टर पुष्प दहिया द्वारा एक अधिसूचना जारी कर ऑक्सीजन खत्म होने की बात कही गई।
उन्होंने कहा कि, पंडित भगवत दयाल शर्मा स्वास्थ्य विज्ञान विश्वविद्यालय के ट्रामा कोविड-19 अस्पताल में फिलहाल नए मरीजों की भर्ती कुछ समय के लिए रोक दी गई है। चिकित्सा अधीक्षक डॉ पुष्पा दहिया ने बताया कि ट्रामा सेंटर में कोविड-19 मरीजों के लिए करीब 120 बेड है और वहां पर ऑक्सीजन की सप्लाई की मांग काफी अधिक बढ़ गई है जिसके चलते जो मरीज फिलहाल एडमिट है उन्हें ही मुश्किल से ऑक्सीजन की सप्लाई हो पा रही है, क्योंकि ट्रामा सेंटर के लिए बनाए गए ऑक्सीजन टैंक में हर 2 दिन में ऑक्सीजन डालना जरूरी होता है लेकिन ऑक्सीजन न मिलने के चलते ऑक्सीजन नहीं डली इसलिए नए मरीजों को ऑक्सीजन की कमी दूर होने तक भर्ती नहीं किया जाएगा ताकि पुराने भर्ती मरीजों की जान को बचाया जा सके।

PGI में हुई ऑक्सीजन की किल्लत, अब कोरोना मरीजों को भर्ती नहीं करेगा पीजीआई

यह भी पढ़ें- ऑक्सीजन सिलेंडर की कालाबाजारी के आरोप में कंपनी मैनेजर गिरफ्तार

यह भी पढ़ें- ऑक्सीजन के लिए आत्मनिर्भर बनेंगे अस्पताल

चिकित्सा अधीक्षक डॉ पुष्पा दहिया ने कहा कि पीजीआईएमएस के अधिकारी लगातार जिला प्रशासन के साथ संपर्क में है कि रात के अंदर ही किसी तरह ऑक्सीजन की सप्लाई पीजीआईएमएस में आ जाए ताकि नए मरीजों को भी भर्ती किया जा सके। डॉ पुष्पा दहिया ने बताया कि पुराने मरीजों को किसी तरह ऑक्सीजन सिलेंडर से ऑक्सीजन देकर काम चलाया जा रहा है।