कोरोना वायरस: भारत में पिछले 12 दिनों में हुई 10 लाख रिकवरी

Coronavirus India Last 10 lakh recoveries added in just 12 days
  • भारत में सक्रिय मामलों के निम्न स्तर पर बने रहने का ट्रेंड जारी
  • लगातार दसवें दिन सक्रिय मामलों की संख्या 10 लाख के नीचे
  • भारत में रिकवरी के लगभग 53 लाख कुल मामले
  • भारत में सक्रिय मामलों की संख्या 10 लाख से नीचे बनी हुई है
  • लगातार दसवें दिन सक्रिय मामले एक मिलियन (10 लाख) से कम हैं

नई दिल्ली। हर रोज बहुत अधिक संख्या में कोविड मरीजों के ठीक होने के कारण, भारत में रोजाना ठीक होने वाले मरीजों की संख्या भी लगातार बढ़ रही है। देश में पिछले 24 घंटों में 85,376 रिकवरी दर्ज की गई है। भारत में आज तक कुल रिकवरी 52,73,201 हुई है। एक दिन में रिकवरी की अधिक संख्या के कारण राष्ट्रीय रिकवरी दर में निरंतर वृद्धि हुई है, जो वर्तमान में 83.53% है।

Coronavirus India Last 10 lakh recoveries added in just 12 days

educareरिकवरी के कुल मामलों में वृद्धि तेजी से हुई है। अंतिम 10 लाख रिकवरी केवल 12 दिनों में हुई हैं। रिकवरी के कुल मामलों में से 77 प्रतिशत मामले 10 राज्यों / केंद्र शासित प्रदेशों में दर्ज किया गया है। महाराष्ट्र में सबसे अधिक रिकवरी के मामले सामने आए हैं। इसके बाद आंध्र प्रदेश और तमिलनाडु का स्थान रहा है।

यह भी पढ़ें: बरोदा उपचुनाव की तारीखों की घोषणा, इस दिन होगी वोटिंग

यह भी पढ़ें: …जब हरियाणा पुलिस ने यूपी पुलिस को हिरासत में ले लिया!

Coronavirus India Last 10 lakh recoveries added in just 12 days

भारत में सक्रिय मामले 9,40,705 हैं। भारत ने 11 सितंबर, 2020 से पहले 9.4 लाख सक्रिय मामले थे। 76 प्रतिशत सक्रिय मामले 10 राज्यों / केंद्र शासित प्रदेशों में हैं। देश के कुल सक्रिय मामलों में आज की तारीख में केवल 14.90 प्रतिशत मामला रह गया है।

Coronavirus India Last 10 lakh recoveries added in just 12 daysदेश में पिछले 24 घंटों में कुल 86,821 नए पुष्ट मामला सामने आया है। नए मामलों का 76 प्रतिशत दस राज्यों में केंद्रित है। महाराष्ट्र ने 18,000 नए मामले सामने आए। कर्नाटक और केरल, दोनों में आठ-आठ हजार से अधिक मामले सामने आए।

पिछले 24 घंटों में 1,181 मौतें दर्ज की गई हैं। 10 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों से 82 प्रतिशत नई मौतें होती हैं। कल बताई गई 40 प्रतिशत मौतें महाराष्ट्र में हुई हैं। महाराष्ट्र में 481 मौतों हुईं जबकि कर्नाटक में 87 मौतें हुईं।