2000 अज्ञात किसानों के खिलाफ मामला दर्ज, जांच में जुटी पुलिस

Palwal Police register FIR
2000 अज्ञात किसानों के खिलाफ मामला दर्ज, जांच में जुटी पुलिस

पलवल। (गुरदत्त गर्ग) 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस पर किसान ट्रैक्टर परेड के दौरान पलवल के सोफ़्ता मोड पर पुलिस और किसानों के बीच हुई झड़प और लाठीचार्ज को लेकर पलवल पुलिस के द्वारा करीब 2000 अज्ञात किसानों के खिलाफ गदपुरी थाना पुलिस में विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है। पुलिस अब किसानों की शिनाख्त कर उनसे पूछताछ करने की तैयारी कर रही है।

Palwal Police register FIR
2000 अज्ञात किसानों के खिलाफ मामला दर्ज, जांच में जुटी पुलिस

जिला पुलिस कप्तान दीपक गहलावत ने बताया कि पुलिस ने किसानों के खिलाफ सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने सहित कई अन्य धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज किया है। मामले में गहनता से जाँच की जा रही है और जाँच में जो भी तथ्य पुलिस के हाथ लगते हैं। उसी के आधार पर आगामी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।

यह भी पढ़ें: एक और किसान संगठन ने खत्म किया आंदोलन

Palwal Police register FIR
2000 अज्ञात किसानों के खिलाफ मामला दर्ज, जांच में जुटी पुलिस

गौर हो कि गणतंत्र दिवस पर किसान पलवल के केएमपी चौक से ट्रैक्टर परेड शुरू कर दिल्ली की तरफ बढ़ रहे थे। नेशनल हाईवे नंबर – 19 पर गांव सोफ़्ता चौक पर पुलिस के द्वारा किसानों की परेड को रोका गया। दरअसल यहां से कुछ ही दूरी पर फरीदाबाद की सीमा आरंभ हो जाती है और फरीदाबाद पुलिस के द्वारा किसानों की परेड को अनुमति नहीं दी गई थी। जिसको लेकर पलवल और फरीदाबाद पुलिस के साथ किसानों की झड़प हुई और पुलिस के द्वारा किसानों पर लाठीचार्ज किया गया।
इस दौरान दोनों तरफ से कई किसान व कई पुलिसकर्मी भी घायल हुए। जिसके बाद हालात को सामान्य करने के लिए पुलिस के द्वारा कुछ किसानों की भी गिरफ्तारी की गई। लेकिन बाद में किसानों को छोड़ दिया गया।

यह भी पढ़ें: कैप्टन अमरिंदर सिंह बोले- लाल किले की घटना निंदनीय, इससे मेरा सिर शर्म से झुक गया

Palwal Police register FIR
2000 अज्ञात किसानों के खिलाफ मामला दर्ज, जांच में जुटी पुलिस

पलवल पुलिस के द्वारा करीब 2000 किसानों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। हालांकि इस मुकदमे में किसी भी किसान का नाम शामिल नहीं किया गया है। पलवल जिला पुलिस कप्तान दीपक गहलावत ने बताया के किसानों के पास आगे जाने के लिए परमिशन नहीं थी। ऐसे में जब पुलिस ने किसानों को आगे जाने से रोकने का प्रयास किया तो उन्होंने पुलिस के साथ झड़प करनी शुरू कर दी और पुलिस पर किसानों ने ट्रेक्टर चढ़ाने के भी प्रयास किए गए। जिसे देखते हुए आत्म रक्षा के लिए पुलिस द्वारा किसानों पर लाठीचार्ज किया गया। उन्होंने किसानों से अपील की है कि आगे वह इस तरह की हिंसा ना करें।