राजनीति

अकाली विधायक बोले- हरियाणा विस अध्यक्ष की धमकी से नहीं डरेंगे, किसानों के लिए जारी रहेगी लड़ाई

By Arvind Kumar -- March 13, 2021 9:27 am -- Updated:March 13, 2021 9:27 am

चंडीगढ़। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के खिलाफ नारेबाजी करने के मामले में शिरोमणि अकाली दल के विधायकों पर कार्रवाई की तैयारी है। हरियाणा विधानसभा स्पीकर ने इस सिलसिले में रिपोर्ट तलब की है और उसके बाद कोई कार्रवाई की जा सकती है। इस बीच शिरोमणि अकाली दल की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि विधायकों ने हमेशा किसानों की भलाई के लिए आंदोलन किया। अकाली दल के विधायकों ने जोर देकर कहा कि अगर हरियाणा सरकार ने उनके खिलाफ दस मामले दर्ज किए तो भी हरियाणा में किसानों तथा मानवाधिकार कार्यकर्ताओं के दमन के खिलाफ आवाज उठाते रहेंगे।

Shiromani Akali Dal MLA अकाली विधायक बोले- हरियाणा विस अध्यक्ष की धमकी से नहीं डरेंगे, किसानों के लिए जारी रहेगी लड़ाई

विधायकों ने कहा कि वो हरियाणा विधानसभा अध्यक्ष द्वारा मामला दर्ज की जाने वाली धमकी से नहीं डरेंगे। वे किसानों के लिए जेल जाने को भी तैयार हैं। अकाली विधायकों ने हरियाणा पुलिस द्वारा किसानों तथा मानवाधिकार कार्यकर्ताओं के साथा-साथ नौजवानों के साथ किए गए बर्बर व्यवहार की निंदा की और कहा कि निंदा कर उन्होंने कुछ भी गलत नहीं किया है।
यह भी पढ़ें- हरियाणा में किसान मित्र योजना होगी शुरू, बजट में फलों के बागों पर सब्सिडी बढ़ाई गई

यह भी पढ़ें- बजट में सीएम खट्टर की घोषणा- हरियाणा में स्थापित होंगे 1000 ‘हेल्थ वेलनेस सेंटर’

Shiromani Akali Dal MLA अकाली विधायक बोले- हरियाणा विस अध्यक्ष की धमकी से नहीं डरेंगे, किसानों के लिए जारी रहेगी लड़ाई

‘हमने हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के खिलाफ शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन करने के लिए अपने लोकतांत्रिक अधिकार का इस्तेमाल किया है। हम अपने ही विधानसभा परिसर में विरोध प्रदर्शन कर रहे थे। हरियाणा सरकार हमारे खिलाफ उसी दमनकारी उपायों का इस्तेमाल करने की कोशिश कर रही है जैसा कि उसने किसान आंदोलन के साथ किया है। हालांकि हम अन्नदाता के लिए कोई भी बलिदान करने के लिए तैयार हैं, अकाली विधायक।'

Shiromani Akali Dal MLA अकाली विधायक बोले- हरियाणा विस अध्यक्ष की धमकी से नहीं डरेंगे, किसानों के लिए जारी रहेगी लड़ाई

अकाली विधायकों ने स्पष्ट किया कि जहां तक किसान आंदोलन का सवाल है तो हरियाणा तथा पंजाब के किसान एकजुट हैं। उन्होंने कहा कि हरियाणा के किसानों की आवाज बुलंद करना हमारी जिम्मेदारी है तथा हमने मांग की थी कि हरियाणा के मुख्यमंत्री उनके साथ न्याय करें। उन्होंने कहा कि वे हरियाणा के मुख्यमंत्री को यह बताना चाहते थे कि किसान आंदोलन में सैंकड़ों किसान शहीद हो गए हैं तथा उन्हें अन्नदाता की आवाज सुनकर यह सबकुछ रोकना चाहिए न कि शांतिपूर्ण आंदोलन को कुचलने की कोशिश करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि हम अपना यह काम जारी रखेंगे।

  • Share