राजनीति

कल लगेगा साल का आखिरी सूर्य ग्रहण, जानिए राशियों पर इसका प्रभाव

By Vinod Kumar -- December 03, 2021 6:25 pm

नेशनल डेस्क: इस साल का आखिरी सूर्य ग्रहण (surya Grahan/Solar Eclipse ) 4 दिसंबर को लग रहा है। हिंदू पंचांग अनुसार ये ग्रहण माघशीर्ष मास की अमावस्या को वृश्चिक राशि और ज्येष्ठा नक्षत्र में लगने जा रहा है। 4 दिसंबर के ग्रहण में कुछ क्षेत्रों में आंशिक और पूर्ण ग्रहण दिखाई देगा। दुनिया के कुछ हिस्से जो सूर्य ग्रहण देखेंगे उनमें शामिल हैं - अफ्रीका, ऑस्ट्रेलिया, दक्षिण अमेरिका और अटलांटिक।

एशिया को छोड़कर अधिकांश देशों में आंशिक सूर्य ग्रहण होगा, अंटार्कटिका एकमात्र ऐसा महाद्वीप होगा जहां पूर्ण सूर्य ग्रहण दिखाई देगा। ग्रहण भारत में दिखाई नहीं देगा, लेकिन इसका प्रभाव सभी लोगों पर पड़ेगा। भारत में दृश्यता बिलकुल शून्य रहेगी इसलिए यहां इसका सूतक काल नहीं माना जाएगा। धार्मिक मान्यताओं अनुसार सूर्य ग्रहण से 12 घंटे पहले सूतक शुरू हो जाता है। जिस दौरान कुछ विशेष कार्यों को करने की मनाही होती है।

भारतीय समय के अनुसार ग्रहण की शुरुआत सुबह 10 बजकर 59 मिनट से होगी और इसकी समाप्ति दोपहर 3 बजकर 7 मिनट पर होगी। ग्रहण काल की कुल अवधि 4 घंटे 4 मिनट की होगी। इस ग्रहण का सूतक काल नहीं लग रहा है। ज्योतिष के अनुसार उसी ग्रहण का सूतक माना जाता है जो अपने क्षेत्र में दृश्यमान हो। भारत में साल का आखिरी सूर्य ग्रहण नहीं लग रहा है इसलिए इसका सूतक काल भी नहीं माना जाएगा।

बता दें सूर्य ग्रहण का सूतक ग्रहण लगने से ठीक 12 घंटे पहले शुरू हो जाता है। इस दौरान कोई भी शुभ कार्य नहीं किये जाते। सूतक काल की अवधि में खाना बनाना और पकाना दोनों मना होता है। भगवान की मूर्ति और तुलसी का पौधा स्पर्श नहीं कर सकते। इस दौरान सोने से भी बचना चाहिए।

सूर्य ग्रहण का राशियों पर प्रभाव
मिथुन, कन्या, मकर और कुंभ राशि वालों पर ग्रहण का शुभ प्रभाव पड़ेगा। करियर में तरक्की के रास्ते खुलेंगे। आमदनी बढ़ सकती है। नई नौकरी के ऑफर आने के आसार रहेंगे। भाग्य का पूरा साथ मिलेगा। वहीं वृश्चिक, मेष, धनु और वृषभ राशि वालों के लिए ग्रहण अच्छा नहीं माना जा रहा है। इन राशि के जातकों को स्वास्थ्य संबंधी दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। इसलिए सतर्क रहें।

सूर्य ग्रहण के लगने से ठीक पहले खाने-पीने की वस्तुएं जैसे पके हुए भोजन, दूध, दही, घी, मक्खन, अचार, पानी, आदि में कुश या तुलसी के पत्ते डाल देने चाहिए। ग्रहण के तुरंत बाद नहाने के पानी में गंगाजल डालकर स्नान कर लें। उसके बाद पूजन करें। ग्रहण के बुरे प्रभाव से बचने के लिए ग्रहण की समाप्ति के बाद जरूरतमंदों को कुछ न कुछ दान करें।
कैसे देखें सूर्यग्रहण की लाइव स्ट्रीमिंग? सूर्यग्रहण को यूट्यूब चैनलों पर लाइव देखा जा सकता है। ग्रहण की लाइव स्ट्रीमिंग करने के लिए Virtual Telescop, Timeanddate, CosmoSapiens चैनल प्रसिद्ध हैं।

कब लगता है सूर्य ग्रहण
विज्ञान के अनुसार सूर्य ग्रहण तब होता है जब चंद्रमा सूर्य और पृथ्वी के बीच आ जाता है, पृथ्वी पर छाया डालता है, कुछ क्षेत्रों में सूर्य के प्रकाश को पूरी तरह या आंशिक रूप से अवरुद्ध करता है। कुल सूर्य ग्रहण होने के लिए, सूर्य, चंद्रमा, और पृथ्वी एक सीधी रेखा में होनी चाहिए।

  • Share